अव्यवस्थो की कवरेज करने गए पत्रकारो को चिकित्सक ने झूठे मामले में फंसाने की दी धमकी: पत्रकार संगठन ने राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन

अव्यवस्थो की कवरेज करने गए पत्रकारो को चिकित्सक ने झूठे मामले में फंसाने की दी धमकी:  पत्रकार संगठन ने राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन

ढीमरखेड़ा (कटनी/मध्यप्रदेश) भाजपा सरकार द्वारा पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर बड़े-बड़े घोषणाये एवं नियम बनाए जा रहे हैं ताकि पत्रकार सुरक्षित रहे और जनता की आवाज को शासन प्रशासन तक पहुंचा सके लेकिन आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र ढीमरखेड़ा में सरकार के आदेश का असर बेअसर नजर आ रहा है हाल ही में  प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ढीमरखेड़ा की चरमराई व्यवस्थाओं की कवरेज करने गए पत्रकारों को चिकित्सक द्वारा कवरेज करने नही करने दी गईं साथ ही दबाव बनाने के लिए चिकित्सक ने पत्रकारों को झूठे मुकदमों व हरिजन एक्ट में फसाने के लिए धमकाया जा रहा है।
 लगातार पत्रकारों को कवरेज से रोकने एवं झूठे आरोप लगाकर थाने में एफआईआर करने की घटना को देखते हुए ढीमरखेड़ा श्रमजीवी पत्रकार संघ द्वारा एसडीएम को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया अध्यापन अनुसार पत्रकारों द्वारा समस्याओ का समाचार एवं पत्राचार कर आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र को शासन की योजनाओं को प्रचार प्रसार करते हितग्राही तक पहुंचाने का कार्य कर रहे हैं लेकिन ढीमरखेड़ा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ आयुर्वेद डॉक्टर जितेंद्र बंसल जिसकी नियुक्ति डेढ़ वर्ष से ढीमरखेड़ा में है इनके द्वारा इलाज में घोर लापरवाही की जा रही है वर्तमान में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मैं 1 सप्ताह के अंदर दो नवजात शिशु की मौत भी हुई है जिसका कवरेज पत्रकारों द्वारा करने पर आयुर्वेद डॉक्टर जितेंद्र बंसल द्वारा दबाव बनाने हेतु थाने में हरिजन एक्ट एवं विभिन्न प्रकार की शिकायतों की धमकी देते हुए पत्रकारों को धमकाया जा रहा है साथ ही जितेंद्र बंसल द्वारा हरिजन एक्ट के साथ लोकसेवक एक्ट लगवाने की भी धमकी दी जाती है जिससे पत्रकार संगठन आहत होकर उनके ऊपर कार्यवाही एवं स्थानांतरण की मांग कर रहा है पूर्व में भी आयुर्वेद डॉक्टर जितेंद्र बंसल के खिलाफ ढीमरखेड़ा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के महिला स्टाफ के द्वारा विभाग  में शिकायत की गई थी जिससे डॉक्टर बंसल की ढीमरखेड़ा से विजयराघोगढ़ तहसील अंतर्गत स्थानांतरण कर दिया गया था पर अपनी पैठ एवं राजनीति की दम पर पुनः ढीमरखेड़ा में पदस्थापना हो गई है अतः महामहिम जी से निवेदन है ऐसे स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी जिनके द्वारा पत्रकारों से अभद्र व्यवहार करना एवं उनके कार्यकाल में  बच्चों की मौत हो जाना जांच का विषय है मामले की जांच कराते हुए आयुर्वेद डॉक्टर जितेंद्र बंसल के ऊपर कारवाही के साथ-साथ ढीमरखेड़ा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से अन्यत्र स्थानांतरण किया जाए
इस संबंध में ढीमरखेड़ा एसडीएम नदीमा सीरी ने बताया कि आयुर्वेद चिकित्सक स्वास्थ्य केंद्र में सेवाएं नहीं दे सकता है बीएमओ से चर्चा कर मामले के संबंध में जानकारी लेकर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी

सत्येन्द्र बर्मन की विशेष रिपोर्ट

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... मौजूदा समय में डिजिटल मीडिया की उपयोगिता लगातार बढ़ रही है। आलम तो यह है कि हर कोई डिजिटल मीडिया से जुड़ा रहना चाहता है। लोग देश में हो या फिर विदेश में डिजिटल मीडिया के सहारे लोगों को बेहद कम वक्त में ताजा सूचनायें भी प्राप्त हो जाती है ★ G Express News के लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ईमानदार ना रुका ना झुका..... क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है