7 साल से रोडवेज में टेक्निकल हेल्पर भर्ती नहीं होने से नाराज अभ्यर्थियों ने दी धरने की चेतावनी

रोडवेज में तकनीकी कर्मचारियों की भर्ती नहीं होने से तकनीकी अभ्यर्थियों पर हो रहा है कुठाराघात.... विकास सैनी

7 साल से रोडवेज में टेक्निकल हेल्पर भर्ती नहीं होने से नाराज अभ्यर्थियों ने दी धरने की चेतावनी

राजस्थान रोडवेज में एक तरफ जहां बसों की संख्या बढ़ती जा रही है वहीं दूसरी तरफ बसों का मेंटेनेंस करने वाले कर्मचारियों की संख्या घटती जा रही है। तकनीकी बेरोजगार संघ राजस्थान के झुंझुनू जिला अध्यक्ष विकास सैनी ने बताया कि 7 साल में विभाग में किसी भी प्रकार की भर्ती नहीं हुई है। वर्ष 2015 के बाद विभाग मौन है भर्ती जारी करवाने को लेकर कई बार विभाग को ज्ञापन व धरना दे चुके हैं लेकिन हर बार आश्वासन मिलता है। लेकिन अभी तक भर्ती का नोटिफिकेशन जारी नहीं हुआ 
है। वर्ष 2015 में अंतिम भर्ती आई थी। उसके बाद भाजपा से कांग्रेस की सरकार आई लेकिन 7 वर्ष बीत जाने के बाद भी सरकार बेरोजगारों की तरफ ध्यान नहीं दे रही है। जिससे बेरोजगार युवाओं में काफी आक्रोश है। युवा ओवरऐज हो रहे हैं।

सरकार चाहे तो प्रदेश के करीब 7000 युवाओं को रोजगार दिया जा सकता है। दिन प्रतिदिन विभाग में कर्मचारियों की कमी हो रही है। इसी कारण परिवहन विभाग घाटे में चल रहा है। समय पर बसों का मेंटेनेंस नहीं हो पाता है। विभाग में तकनीकी कर्मचारियों की भारी कमी है। विभाग केडर के हिसाब से बात करें तो 7 से 8000 पद रिक्त चल रहे हैं। जिलाध्यक्ष सैनी ने बताया कि सरकार अगर समय रहते भर्ती का विज्ञापन जारी नहीं करती है तो परिवहन मंत्री के कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन करेंगे। अब युवाओं के सब्र का बांध टूट चुका है। धैर्य की परीक्षा ना ले सरकार, समय रहते अगर विज्ञप्ति जारी नहीं होती है तो प्रदेश भर के युवाओं के साथ आंदोलन की रूपरेखा बनाई जाएगी और सरकार के खिलाफ बड़ा उग्र आंदोलन करना पड़ेगा जिसके लिए सरकार जिम्मेदार  होगी। सैनी ने मीडिया के माध्यम से परिवहन मंत्री बृजेंद्र ओला से मांग की है कि टेक्निकल हेल्पर के पदों पर जल्द से जल्द विज्ञप्ति निकाल कर युवाओं को राहत प्रदान करें। अन्यथा मजबूरी में हमें धरना प्रदर्शन करना पड़ेगा।

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... मौजूदा समय में डिजिटल मीडिया की उपयोगिता लगातार बढ़ रही है। आलम तो यह है कि हर कोई डिजिटल मीडिया से जुड़ा रहना चाहता है। लोग देश में हो या फिर विदेश में डिजिटल मीडिया के सहारे लोगों को बेहद कम वक्त में ताजा सूचनायें भी प्राप्त हो जाती है ★ G Express News के लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ईमानदार ना रुका ना झुका..... क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है