सेल्फी लेते तालाब में गिरने से तीन भाइयों की मौत: एक का पैर फिसला दो बचाने के लिए कूदे

सेल्फी लेते तालाब में गिरने से तीन भाइयों की मौत: एक का पैर फिसला दो बचाने के लिए कूदे

राजस्थान के बाड़मेर में तीन चचेरे भाइयों की सेल्फी लेने के दौरान तालाब में गिरने से मौत हो गई। एक भाई का पैर फिसल गया। वह डूबने लगा तो दोनों भाई भी बचाने के लिए कूद गए। डूबने से तीनों की मौत हो गई। दो घंटे के रेस्क्यू के बाद BSF ने स्थानीय लोगों की मदद से तीनों के शव को बाहर निकाला। घटना बाड़मेर जिले के गडरारोड थाना इलाके की है।

तालाब किनारे जूते देखे तो हुआ संदेह

शनिवार सुबह 10.30 बजे तीनों चेचेरे भाई घर से क्रिकेट खेलने के लिए निकले थे। अमी का पार में खाली मैदान के पास छोटे तालाब में पानी भरा था। साथी क्रिकेट खेलने नहीं पहुंचे तो एक भाई सेल्फी लेने लगा। इस दौरान पैर फिसलने से पानी में गिर गया। दो युवक उसको बचाने के लिए कूदे। बचाने की कोशिश में तीनों डूब गए। इस दौरान मौके से गुजर रहे लोगों ने तालाब के बाहर जूते देखे तो संदेह हुआ। आसपास के लोगों से पूछा तब पता चला कि तीन युवक आसपास दिखे थे। सूचना पर गडरारोड पुलिस व स्थानीय प्रशासन भी मौके पर पहुंचा। स्थानीय लोगों व BSF की मदद से करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद तीनों युवकों के शव को बाहर निकाला गया। इस दौरान काफी संख्या में लोग इकट्‌ठे हो गए।
गडरारोड पुलिस के अनुसार, पानी में डूबने से अजीज (28) पुत्र हसन खान, आरिफ (22) पुत्र इदरीस , रज्जाक (25) पुत्र मजीद अमी का पार के रहने वाले थे। तीनों का परिवार किसान है। शवों को गडरारोड अस्पताल की में रखवाया गया है। 
गडरारोड थाना अधिकारी प्रभुराम ने बताया कि छोटा तालाब था। जहां से पानी आ रहा था, वहां कम था। जहां से गिरे, वहां पर ग़ड्डा गहरा था। दलदल की वजह से फंस गए थे। पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिया।

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... मौजूदा समय में डिजिटल मीडिया की उपयोगिता लगातार बढ़ रही है। आलम तो यह है कि हर कोई डिजिटल मीडिया से जुड़ा रहना चाहता है। लोग देश में हो या फिर विदेश में डिजिटल मीडिया के सहारे लोगों को बेहद कम वक्त में ताजा सूचनायें भी प्राप्त हो जाती है ★ G Express News के लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ईमानदार ना रुका ना झुका..... क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है