महंगी बिजली व पेट्रोल-डीजल विरोध में नुक्कड़ सभाए कर जन जागरण अभियान चलागी आम आदमी पार्टी

राज्य सरकार से अविलम्ब बिजली व पेट्रोल-डीजल की दरों में कमी करके आमजन को राहत प्रदान करने की माँग

महंगी बिजली व पेट्रोल-डीजल विरोध में नुक्कड़ सभाए कर जन जागरण अभियान चलागी आम आदमी पार्टी

श्रीगंगानगर (राजस्थान/ हेर्मेन्द्र सिंह) आम आदमी पार्टी द्वारा महंगी बिजली व पेट्रोल-डीजल की अत्याधिक कीमतों के विरोध में जन जागरण अभियान के तहत नुक्कड़ सभा का आयोजन किया गया। 3E छोटी स्थित करणी माता मन्दिर के समीप आयोजित इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष शंकर मेघवाल ने की। समाजसेवी महिला नेत्री वीना चौहान, बीएस चौहान, विधानसभा उपाध्यक्ष सैयद अहमद नकवी, यूथ विंग सह सचिव मोहित सेतिया, वार्ड अध्यक्ष उमेश शर्मा, 3 ई छोटी ग्राम पंचायत अध्यक्ष ओमप्रकाश आचार्य आदि वक्ताओं ने सम्बोधित करते हुए पार्टी की रीति-नीति एवं आगामी कार्यक्रमों व गतिविधियों की जानकारी दी तथा  केन्द्र व राज्य सरकार की महंगाई बढ़ाने वाली नीतियों पर कड़ा आक्रोश व्यक्त किया। वीना चौहान ने महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करते हुए अधिकाधिक महिलाओं से आम आदमी पार्टी में शामिल होने का आह्वान किया। इस मौके पर पार्टी की रीति-नीति तथा विचारधारा से प्रभावित होकर परविन्द्र सिंह, त्रिलोक नायक, आशु शर्मा, राजेन्द्र शर्मा, रवि कुमार नेपाली, दुर्गा शर्मा, स्वीटी अरोड़ा, सावित्री देवी, कृष्णा देवी, ओमप्रकाश सैन, पुष्पेन्द्र सिंह, पूर्ण सिंह, दीपू रोज, प्रकाश, बनवारी चारण, शदाब रज्जा सहित अनेकों लोगों ने आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।
नुक्कड़ सभा को सम्बोधित करते हुए जिलाध्यक्ष शंकर मेघवाल ने कहा कि राजस्थान की जनता देश की सबसे महंगी बिजली दरों से त्रस्त है। इसके बावजूद सरकार द्वारा बार-बार सरचार्ज के नाम पर उपभोक्ताओं को परेशान किया जा रहा है। अब फिर 33 पैसे प्रति यूनिट का फ्यूल सरचार्ज लगाकर आमजन का जीवन जीना दुर्भर कर दिया है। कोरोनाकाल में आमजन बेरोजगारी एवं काम-धंधों में मंदी के कारण पहले से ही आर्थिक रूप से परेशान है। कोराना एवं डेंगू महामारी ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है। राज्य सरकार बिजली चोरी पर अंकुश लगाने में विफल साबित हुई है तथा इसका खामियाजा ईमानदार उपभोक्ता को भुगतना पड़ रहा है। राजस्थान की जनता आज महंगाई और सरकारी लूट से पीडि़त है। राजस्थान प्रदेश में बिजली पहले ही महंगी थी और अब फ्यूल सरचार्ज लगाने के फैसले ने कोढ़ में खाज का काम करते हुए प्रदेश की 1 करोड़ 52 लाख बिजली उपभोक्ताओं पर 550 करोड़ रूपये अधिक चुकाने का बोझ डाल दिया। कांग्रेस पार्टी दोहरा चरित्र अपना रही है। एक तरफ तो महंगाई के खिलाफ पदयात्रा निकाल रही है, परन्तु दूसरी तरफ महंगाई कम करने की बजाय बार-बार जनता पर महंगाई थोप रही है तथा इसका ठीकरा केन्द्र सरकार पर फोड़ रही है, जबकि वास्तविकता यह है कि महंगाई के लिए केन्द्र व राज्य सरकार दोनों ही जिम्मेवार हैं।  
जिलाध्यक्ष शंकर मेघवाल ने कहा कि पंजाब में बिजली की नई दरों और राजस्थान में वसूली जाने वाली दरों में भारी-भरकम अंतर हो गया है। कांग्रेस जब पंजाब में सस्ती बिजली दे सकती है तो राजस्थान में क्यों नहीं? राजस्थान में देश में सर्वाधिक बिजली की दरें हैं, जबकि राजस्थान में भी कांग्रेस की सरकार है। आखिर राजस्थान में बिजली दरों में कटौती कब होगी? राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले में दूसरे राज्यों की तुलना में पेट्रोल-डीजल की दरों में अब भी लगभग 17 रूपये प्रति लीटर का अंतर है। भारत में सबसे महंगा-डीजल पेट्रोल राजस्थान में मिल रहा है तथा राजस्थान में भी सबसे महंगा डीजल-पेट्रोल श्रीगंगानगर जिले का किसान, आमजन खरीदने के लिए मजबूर है।  
आम आदमी पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने पुरजोर शब्दों में राजस्थान सरकार से माँग की कि अविलम्ब बिजली पर बार-बार लगाए जा रहे सरचार्ज को वापिस लेकर तथा पेट्रोल-डीजल पर वेट की दरें पड़ौसी राज्यों के समान करके आमजन को राहत प्रदान की जाए। अन्यथा महंगी बिजली व पेट्रोल-डीजल की दरों के विरोध में आम आदमी पार्टी सडक़ों पर उतरकर जन आंदोलन करेगी, जिसकी समस्त जिम्मेवारी राज्य सरकार की होगी। इस अवसर पर आम आदमी पार्टी पदाधिकारी, कार्यकर्ता एवं क्षेत्र के गण्यमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।