लाख समझाने के बाववजूद अपनी जान को खतरे में डाल रहे हैं लोग

बंद फाटक पर नीचे से गुजारते हैं वाहन, कभी भी हो सकता है हादसा

लाख समझाने के बाववजूद अपनी जान को खतरे में डाल रहे हैं लोग

अबोहर (पंजाब/ सत्यनारायण शर्मा): लोगों को बार-बार समझाये जाने के बावजूद अपनी जान खतरे में डालने से बाज नहीं आ रहे हैं। ट्रेन आते समय रेलवे फाटक को इसलिए बंद किया जाता है ताकि कोई हादसा न हो। लेकिन कुछ लापरवाह लोग बंद फाटक के नीचे से अपने वाहनों को गुजारने से बाज नहीं आ रहे हैं। कुछ मोटरसाईकिल के पीछे तो रेहड़े भी जुड़े होते हैं। यदि यह वाहन फाटक के नीचे फंस जाये तो बड़ा हादसा हो सकता है और जान भी जा सकती है। रेलवे विभाग के अधिकारी कई बार लोगों के चालान भी काटते हैं लेकिन फिर भी लोग इस लापरवाही को दोहराते रहते हैं।