महिला कांस्टेबलों ने बालिकाओं को सिखाए आत्म रक्षा के गुर

महिला कांस्टेबलों ने बालिकाओं को सिखाए आत्म रक्षा के गुर

सिरोही (राजस्थान/ रमेश सुथार) जिले में चलाए जा रहे आत्म रक्षा प्रशिक्षण को लेकर बरलुट थाना क्षेत्र की राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय वराडा में महिला कांस्टेबल मोहनी विश्नोई व लक्ष्मी कुमारी  ने आत्मरक्षा को लेकर बालिकाओं को प्रशिक्षण दिया। उन्होंने बताया कि आत्मरक्षा का मुख्य उद्देश्य बालिकाओं व महिलाओं को प्रशिक्षण के माध्यम से शारीरिक एवं मानसिक रूप से आत्मनिर्भर बनाना है।ताकि बालिकाएं प्रतिकूल हालातों में बिना विचलित हुए उसका सामना कर सकें। महिला कांस्टेबलों ने स्टूडेंट को सेल्फ डिफेंस के गुर सिखाकर मुंह तोड़ जवाब कैसे दिया जाए।इसको लेकर बालिकाओं को गुर सिखाए।उन्होंने बताया कि इस आपाधापी के युग में सबसे पहली चीज है आत्मरक्षा। आत्मरक्षा प्रत्येक व्यक्ति का कर्म भी है और धर्म भी। विशेषकर महिलाओं व बालिकाओं को अपनी स्वयं की रक्षा करना आना चाहिए। इससे वे सभी स्थितियों में मजबूती के साथ खड़ी रह सकेंगी और अपनी स्वयं की रक्षा कर सकेंगी।अगर महिलाएं और बालिकाएं सशक्त होगी, तभी प्रदेश, देश का विकास संभव है। आए दिन जो छेड़छाड़, घरेलू हिंसा के प्रकरण बनते हैं। उनमें कमी हो सके और महिलाएं सशक्त रूप से समाज में खड़ी होकर अपना नाम व अपने परिवार का नाम गौरवान्वित कर सके।प्रधानाचार्य भंवरलाल पुरोहित ने बताया कि विधालय की 166 बालिकाओं को आत्म रक्षा प्रशिक्षण दिया गया। उन्होंने कहा कि बालिकाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए पुलिस की ये अनोखी पहल है। जिससे बालिकाओं में खुद की रक्षा करने का विश्वास जगेगा।उन्होंने सोशल मीडिया से दूर रहने की सलाह दी।इस मौके पर संजय शर्मा,गोवा राम ,दिनेश, फिरदौस बेगम सहित कई बालिकाएं मौजूद रही।

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... ★ हमारे सच लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ★ ईमानदार ना रुका ना झुका ★ क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है