लावारिस मवेशियों को आए दिन लग रहे कंरट के झटके, अधिकारियों का ध्यान केवल वसूली पर

लावारिस मवेशियों को आए दिन लग रहे कंरट के झटके, अधिकारियों का ध्यान केवल वसूली पर
ट्रांसफार्मर सहित मुख्य मार्ग में झुकते पोल से हादसे का अंदेशा

उदयपुर (राजस्थान/ मुकेश मेनारिया) बिजली विभाग के अधिकारी और कर्मचारी अपने आकाओं और सरकार को खुश करने के लिए जोरशोर से वसूली करने में लगे हुए हैं, जबकि सुरक्षा इंतजाम ताक पर हैं तो रख रखाव केवल कागजों में ही दिखाई दे रहा हैं। जिस कारण आमजन के साथ लावारिस मवेशियों की तो कभी कार्मिक अकाल ही काल के ग्रास तक बन सकते हैं।
वल्लभनगर विधानसभा क्षेत्र में आमजन व कर्मचारियों की सुरक्षा को काफी लंबे समय से ताक पर रखकर डिस्कॉम के अधिकारी वसूली में लगे हुए हैं। अधिकारियों की लापरवाही से हरदम दुर्घटना की संभावना बनी हुई हैं। गंभीर बात यह हैं कि सार्वजनिक व चहल-पहल वाले स्थानों पर लगे अधिकतर ट्रांसफार्मरों के यहां तार खुले पडे हैं। वहीं कई जगह वीसीबी भी लंबे समय से नकारा पडी हैं। उसके बावजूद अधिकार न तो उन्हें ठीक करवा रहे हैं और न हीं बदलवा रहे हैं। फ्यूज का तो उपयोग ही नहीं कर रहे हैं। उपकरण जर्जर तो कई नकारा हो गए हैं। सुरक्षा व्यवस्था को नजर अंदाज कर जुगाड से काम चलाया जा रहा हैं। सभाओं में राजनेता और बैठकों में अधिकारी जनता को सुचारू और पूरी बिजली देने के बडे-बडे दावे करते हैं। लेकिन धरातल पर ये दावे कितने सच्चे हैं इसकी पोल हमारे केमरे ने खोली हैं। हद तो यह हैं कि अधिकारी उपकरण खराब और जुगाड से चलाना स्वीकार तक करने को तैयार नहीं हैं। जबकि हकीकत यह हैं कि डिस्कॉम के अधिकारियों के नाक के नीचे लंबे समय से तार काफी नीचे झूल रहे वहीं ट्रांसफार्मरों के नीचे खूले तार हरदम हादसे को न्योता दे रहे हैं। अप्रिय घटना से बचने के लिए ना तो तारबंदी कर रखी और ना ही फ्यूज सीस्टम लगा हुआ हैं। फ्यूज का तो उपयोग करते तो ढूढने पर भी नही मिलेगा तथा कहीं पर डायरेक्ट तार तो कहीं पर हेवी वायर ही जोड रखे हैं। जिस कारण आए दिन हाई वॉल्टेज प्रवाहित होने से घरों में लाखों के उपकरण जल रहे हैं। जगदीश चंद्र ने बताया कि गत पन्द्रह दिनों में दो बार मेनार में ऐसी घटना हो चुकी हैं। क्षेत्र में अधिकांश स्थानों पर सही उपकरण व सही सुरक्षा व्यवस्था की बजाय जुगाड कर काम चलाया जा रहा हैं। जो आमजन के साथ हीं स्वच्छंद विचरण करने वाले लावारिस मवेशियों की जान के साथ खिलवाड हैं। वल्लभनगर मेनार में रा.उ.मा.वि.के बाहर मुख्य मार्ग पर तीन ट्रांसफार्मर एक ही जगह लगा रखे हैं, वह भी नट बोल्ट लगाकर फिट करने की बजाय तार के सहारे टिका रखे हैं। जहां तार व फ्यूज बॉक्स खुला पडा हैं,फ्यूज की जगह डायरेक्ट तार जोड रखे हैं। यहां लाईन कट करने का लगा सिस्टम कई सालों से नकारा पडा हैं। इसी तरह मेनार से छपरा मुख्य मार्ग पर तेलियों के बावजी के पास लगे ट्रांसफार्मर सहित दोनों पोल करीब 80 डिग्री के एंगल में मुख्य मार्ग पर लंबे समय से झुके हुए हैं। समाज सेवी बद्री लाल तेली ने बताया कि प्रसिद्ध देव स्थान व फतहनगर जाने का शॉर्ट मुख्य मार्ग होने की वजह से श्रद्धालुओं व राहगीरों का आना जाना रहता हैं। विभाग के अधिकारियों को कई बार अवगत कराया लेकिन कोई सुधार नहीं किया। साथ ही उन्होनें यह भी बिजली विभाग द्वारा बताया कि उचित रखरखाव भी नहीं किया जा रहा हैं। जो कभी भी हादसें का कारण बन सकता हैं। यह मात्र उदाहरण हैं लेकिन पूरे वल्लभनगर विधानसभा क्षेत्र की बात करे तो इससे भी भयावह स्थिति हैं। सुत्रों की माने तो अधिकारी और कर्मचारी अपने आकाओं और सरकार को खुश करने के लिए जोरशोर से वसूली करने में लगे हुए हैं, जबकि सुरक्षा इंतजाम ताक पर हैं। जिस कारण आमजन के साथ लावारिस मवेशियों की तो कभी कार्मिक अकाल ही काल के ग्रास तक बन रहे हैं। विभाग के ही कार्मिकों ने बताया कि अधिकारियों को केवल उनकी पगार से मतलब हैं, कई उपकरण जर्जर हो चुके हैं। जिस कारण हादसे की संभावना रहती है, लेकिन कोई ध्यान नही देता इसलिए जैसे तैसे काम चलाना पड रहा हैं।