राजस्व न्यायालयों में फैले भ्रष्टाचार पर राज्यपाल के नाम उपखण्ड अधिकारी ब्यावर को सौपा ज्ञापन

राजस्व न्यायालयों में फैले भ्रष्टाचार पर राज्यपाल  के नाम उपखण्ड अधिकारी ब्यावर को सौपा ज्ञापन

ब्यावर / जीतेन्द्र k ठठेरा

ब्यावर 13 जून, भारतीय जनता पार्टी विधि प्रकोष्ठ जिला अजमेर देहात जिला संयोजक एडवोकेट यज्ञेश शर्मा के नेतृत्व में आज उपखण्ड अधिकारी ब्यावर को ज्ञापन दिया। ज्ञापन देने से पूर्व सभी अधिवक्ताओं ने घोर निंदा करते हुए राजस्व न्यायालयों में फैले भ्रष्टाचार पर अपना रोष जाहिर किया।

एडवोकेट यज्ञेश शर्मा ने बताया कि भाजपा विधि प्रकोष्ठ अजमेर देहात की ओर से महामहिम राज्यपाल महोदय के नाम दिए ज्ञापन में यह मांग की कि पूरे प्रदेश में तुरन्त प्रभाव से अधिवक्ता प्रोटेक्शन एक्ट लागू किया जाए। राजस्व अदालतों में भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने हेतु राजस्व अदालतों का क्षेत्राधिकार तुरंत प्रभाव से न्यायपालिका को हस्तांतरित किया जाकर राज्य राजस्व अदालतों में न्यायिक अधिकारियों की नियुक्ति की जावे। इसी के साथ राजस्थान सरकार द्वारा बार कौंसिल ऑफ राजस्थान के माध्यम से अधिवक्ता एवं उनके परिवार को आर्थिक रूप से सफल बनाने हेतु ग्रुप इंश्योरेंस स्कीम लागू की जाए। अधिवक्ता श्री हंसराज मावलिया के परिवार को एक करोड़ रपये की आर्थिक सहायता तथा उसके परिवार के आश्रित व्यक्ति को सरकारी नौकरी प्रदान की जावे तथा 5 साल तक की प्रेक्टिस करने वाले अधिवक्ताओं को राज्य सरकार के स्टाइपन की व्यवस्था की जाए। अधिवक्ता श्री हंसराज आत्मदाह प्रकरण में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वाले प्रदेश के अधिवक्ताओं पर राजस्थान प्रदेश के विभिन्न पुलिस थानों में पुलिस द्वारा झूठे मुकदमे दर्ज कराए गए हैं उन्हें तुरन्त प्रभाव से वापस लिया जावे। 

अतः महामहिम के समक्ष राजस्थान प्रदेश के अधिवक्ताओं के हितार्थ भारतीय जनता पार्टी विधि प्रकोष्ठ अजमेर देहात की ओर से उपरोक्त ज्ञापन प्रस्तुत कर निवेदन करते हुए राजस्थान प्रदेश के अधिवक्ताओं के हितार्थ तथा उनके सुरक्षा देने हेतु राजस्थान सरकार उपरोक्त मांगों पर विचार कर राजस्थान प्रदेश के अधिवक्ताओं के हित में उपरोक्त मांगे स्वीकार कर उचित कार्रवाई करने की मांग की।

इस दौरान एडवोकेट सुनील कौशिक, दुर्गादास राठौड़, चंद्रदेव सांखला, सुरेंद्र सिंह चौहान, लक्ष्मण सिंह पवार, केसर प्रताप सिंह, विजय जगदी, गणपत सिंह रावत, रवि सुखाड़िया, महेंद्र सिंह रावत, प्रेम सिंह, पुष्पाकंवर राठौड़, शिवदास राठौड़, मनू शर्मा, भगवत सिंह, राजेंद्र बागड़ी, आशीष शर्मा, श्यामप्रताप सिंह, दीपेंद्र शर्मा, पूरणसिंह चौहान, हनुमानसिंह राठौड़, मोहनलाल शर्मा,  किशोरीलाल जैन, अरुण नागर, अजय फुलवारी, दिशान्त शर्मा, सर्वेश्वर सारस्वत, रवि टांक, जितेन्द्र ठठेरा सहित सभी अधिवक्तागण उपस्थित थे।