आहोर मे देर रात हुई सड़क दुर्घटना में पांच की मौत, आक्रोशित ग्रामीणों ने हाईवे किया जाम

आहोर मे देर रात हुई सड़क दुर्घटना में पांच की मौत, आक्रोशित ग्रामीणों ने हाईवे किया जाम

आहोर (जालोर, राजस्थान/ बरकत खान) आहोर उपखण्ड क्षेत्र के चरली गांव के रहने वाले 5 युवक तखतगढ़ स्थित एक होटल पर खाना खाने के बाद देर रात अपनी कार में सवार होकर पुनः अपने घरों को लौट रहे थे कि तभी उनकी कार ने नेशनल हाईवे पर खड़े ग्रेनाइट ब्लॉक से भरे एक ट्रेलर के पीछे से टक्कर मार दी। ये भिंड़त इतनी भयानक थी कि कार का अगला हिस्सा पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया और कार ट्रेलर के पिछले भाग में फंस गई। कार में सवार सभी पांचों युवक भी इस हादसे में काल के ग्रास बन गए। और कार में फंस जाने के बाद करीब 2 घण्टों की कड़ी मशक्कत के बाद इन शवों को बाहर निकाला गया। इधर घटना की सूचना पर आहोर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और ग्रामीणों की सहायता से लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर इन शवों को बाहर निकालकर आहोर अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया।

गांव में छाया मातम, ग्रामीण हुए आक्रोशित, हाईवे किया जाम : आहोर के निकट चरली गांव के रहने वाले दिनेशकुमार पुत्र परसुराम प्रजापत, रामलाल पुत्र जेठाराम प्रजापत, कमलेश पुत्र चम्पालाल प्रजापत, छगनलाल पुत्र जगदीश प्रजापत तथा मानाराम पुत्र शांतिलाल हीरागर की इस दुर्घटना में मौत की खबर सुनते ही पूरे गांव में मातम छा गया। वहीं ट्रेलर चालक के विरुद्ध ग्रामीणों में जबरदस्त आक्रोश देखने को मिला। ग्रामीण एक एक कर पंचायत भवन के आगे जुटने लगे और देखते ही देखते बड़ी संख्या में ग्रामीण जमा हो गए।

 ग्रामीणों ने इस हादसे को लेकर जबरदस्त आक्रोश जताना शुरू किया तो प्रशासन भी चरली पहुंचा और ग्रामीणों से समझाइश करने की कोशिश में जुट गया। वहीं इस विभत्स हादसे की खबर मिलते ही आहोर विधायक छगनसिंह राजपूरोहित, जालोर कलेक्टर निशान्त जैन, पुलिस अधीक्षक हर्षवर्धन अग्रवाला भी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों से समझाइश की। लेकिन ग्रामीणों का गुस्सा शांत नही हुआ और उन्होंने हाईवे पर आकर सड़क जाम करते हुए प्रदर्शन शुरू कर दिया। पुलिस लगातार ग्रामीणों से समझाइश कर जाम खुलवाने की कोशिश में जुटी हुई हैं।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जताया दुःख:  हादसे की खबर मिलने पर प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर गहरा दुख प्रकट किया हैं। साथ ही हादसे में मृतक युवको के परिवार के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त की हैं।

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... ★ हमारे सच लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ★ ईमानदार ना रुका ना झुका ★ क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है