जन्मभूमि से ऐसा लगाव कि प्रदेश में कमाकर गांव में करवाया भागवत कथा का आयोजन

भागवत कथा में गायों के लिए आए लगभग पौने 4 लाख रुपए

जन्मभूमि से ऐसा लगाव कि प्रदेश में कमाकर गांव में करवाया भागवत कथा का आयोजन

मकराना (नागौर, राजस्थान/ मोहम्मद शहजाद) नागौर जिले की पंचायत समिति मूंडवा के गांव रूण में जन्मे एक शख्स का जन्म भूमि से ऐसा लगाव दिल में पनपा और उन्होंने गौ माता के लिए अपनी ओर से पूरा खर्च करके श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन ही करवा दिया। कार्यक्रम प्रवक्ता अर्जुन खांडल और मूलचंद शर्मा ने बताया गांव रूण में जन्में कृष्ण भक्त और धर्म के प्रति गहरी आस्था रखने वाले सोहनलाल रिणवां का बचपन गरीबी में ही गुजरा और माता-पिता का देहांत हो गया था और इनके परिवार वालों ने ही इसको पाल पोस कर बड़ा किया और कम उम्र में ही प्रदेश में जाकर नौकरी करके अपने बलबूते से खुद का कपड़े का व्यापार किया और जन्मभूमि में आते जाते रहे, इस बार इनके दिल में गौ माता के लिए कुछ करने की इच्छा हुई और इन्होंने भव्य श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन अपने गांव रूण में गौ माता के नाम किया, उन्होंने  बताया कि कथा व्यास कैलाश शास्त्री के मुखारविंद से इस कथा आयोजन में गौ सेवा के लिए अनुरोध करने पर ग्रामीणों और बाहर से आए हुए श्रद्धालुओं ने लगभग पौने चार लाख रुपए की दान राशि भेंट की। अब यह पूरी धनराशि गौ माता के नाम से ही खर्च की जाएगी। इस गो हितार्थ भागवत कथा कार्यक्रम को 7 दिन तक सभी ने भाग लेकर पुण्य प्राप्त किया और सोहनलाल के इस गो हितार्थ भलाई के कार्य को खूब सराहा। गौरतलब है कि इनके चाचा राजाराम शर्मा श्रीभोमियासा गौशाला रूण में गायों को चरा रहे हैं। एक विशेष बैठक आयोजित हुई जिसमें कैलाशचंद्र, राधेश्याम, कन्हैयालाल, श्रीनिवास जोशी, जुगल गोलवां, बजरंगलाल, तुलसीराम, चतुर्भुज, शिव भगवान और राजाराम सहित समाज के लोगों ने भाग लिया और इस राशि का सदुपयोग करने की बात कही।

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... मौजूदा समय में डिजिटल मीडिया की उपयोगिता लगातार बढ़ रही है। आलम तो यह है कि हर कोई डिजिटल मीडिया से जुड़ा रहना चाहता है। लोग देश में हो या फिर विदेश में डिजिटल मीडिया के सहारे लोगों को बेहद कम वक्त में ताजा सूचनायें भी प्राप्त हो जाती है ★ G Express News के लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ईमानदार ना रुका ना झुका..... क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है