थम नही रही दुष्कर्म की घटनाए 14 साल की नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म, जहर पीने से हुई मौत

4 लोगो के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या का मामला दर्ज, नाबालिग आरोपी पुलिस निगरानी में

थम नही रही दुष्कर्म की घटनाए 14 साल की नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म, जहर पीने से हुई मौत

बांसवाड़ा,राजस्थान 
जिले के खमेरा थाना इलाके में 14 साल की नाबालिग से सामूहिक ज्यादती के बाद जहर देकर हत्या करने का  सनसनीखेज मामला आया सामने है। बुधवार रात काे बालिका ने अस्ताल में दम ताेड़ दिया। परिजनाें ने चार लोगो के खिलाफ सामूहिक ज्यादती और हत्या का नामजद मामला दर्ज कराया गया है  बालिका के परिजनाें ने सामूहिक ज्यादती की भी आशंका जताई है। जिस पर फिलहाल पुलिस ने आईपीसी की धारा 376 डी और धारा 302 के आराेप में नाबालिग को निगरानी में लिया है। हालांकि, बालिका के साथ सामूहिक ज्यादती हुई या नहीं इसकी असल वजह शुक्रवार काे पाेस्टमार्टम के बाद साफ हाेगी।
मृतक बालिका मां ने बताया कि  घटना 29 सितंबर की रात 10:30 बजे की है। आराेपी मृतका काे गलत नजराें से देखता रहता  था रात काे जब बेटी शाैच करने के लिए घर से बाहर निकली ताे पहले से छिपकर बैठे आरोपी ने उसे पकड़ लिया। बेटी चिल्लाती इससे पहले उसका मुंह दबा दिया और उसे किसी अज्ञात जगह ले जाकर ज्यादती की। इस दाैरान बालिका की हालत बिगड़ गई। जिस पर आराेपी खुद उसे अस्पताल ले गया। इसके बाद 14 साल की बालिका की जहर पीने के बाद माैत हुई है। परिजनाें ने अगवा कर ले जाने और फिर सामूहिक ज्यादती करने की नामजद शंका जताई है। जिस पर आरोपी और उसके अलावा लक्ष्मण बुझ, शांति बुझ और माेहन बुझ के खिलाफ सामूहिक ज्यादती और हत्या के आराेप में प्रकरण दर्ज कर लिया गया है। 

सहेली ने निर्वस्त्र नाबालिग को पहनाए कपड़े 

पीड़िता की मां ने कहा कि उसकी बेटी की सहेली लसी ने खुद उसे बताया कि उनकी बेटी निर्वस्त्र पड़ी हुई थी। उसने खुद ही उसे साथ ले गए कपड़े पहनाए थे। बेटी के कपड़े फटे हुए थे।  जिस पीआर माँ ने बेटी के साथ सामूहिक ज्यादती कि शंका व्यक्त की  और फिर जब तबीयत बिगड़ने पीआर बेहाेशी की हालत में अस्पताल में भर्ती करवा दिया गया। 30 सितंबर की रात 9 बजे आराेपी माेहन मृतका की मां काे लेने आया। जिस पर मृतका की मां अाऔर भाई अस्पताल पहुंचे। थाेड़ी देर बाद बेटी ने दम ताेड़ दिया। जिस पर लक्ष्मण, शांति और माेहन भाग गए। इस घिनाैनी हरकत काे छिपाने और सबूत नष्ट करने की भी पूरी काेशिश की गई। जिसमें लक्ष्मण, शांति, माेहन और उनके साथियाें ने पूरा सहयाेग दिया।