बनेड़ा के पूर्व विधायक पराक्रम सिंह का निधन: कस्बे में शोक की लहर 5 अगस्त को होगी अंत्येष्ठि

बनेड़ा के पूर्व विधायक पराक्रम सिंह का निधन: कस्बे में शोक की लहर 5 अगस्त को होगी अंत्येष्ठि

भीलवाड़ा (राजस्थान/ बद्रीलाल माली) भीलवाड़ा जिले के बनेड़ा राजघराने के सदस्य और पूर्व विधायक पराक्रम सिंह का गुरूवार को सांय निधन हो गया। पूर्व विधायक पराक्रम सिंह की अंत्येष्ठि शुक्रवार 5 अगस्त को उनके पेतृक गांव बनेड़ा में होगी। वो 68 वर्ष के थे। अपने पीछे भरापूरा परिवार छोड़ गये है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने गहरा शोक व्यक्त किया है। 
बनेड़ा राजपरिवार के मुखिया गोपालचरण सिसोदिया ने बताया कि उनके काकाश्री पराक्रम सिंह ने आज अंतिम सांस ली। वो पिछले लंबे समय से बीमार थे। जयपुर में उनका उपचार चल रहा था। पराक्रम सिंह की शुक्रवार 5 अगस्त प्रातः 9 बजे बडा महल बनेड़ा से अंतिम यात्रा प्रारंभ होगी। 
बनेड़ा के राजाधिराज रहे स्वर्गीय हेमेंद्र सिंह के लघु भ्राता पराक्रम सिंह कई दिनों से बीमार थे और उनका जयपुर के चिकित्सालय में उपचार चल रहा था। उनकी पार्थिव देह आज रात बनेड़ा लाई गयी है। 
जिले की राजनीति में दंबग जनप्रतिनिधि कहे जाने वाले पराक्रम सिंह ने चार बार विधानसभा का चुनाव लड़ा परंतु वो विधायक एक बार 1993 में ही निर्वाचित हो सके। विधायक के अलावा राजनीति में सक्रिय रहने के कारण वो बनेड़ा में प्रधान व सरपंच के पद पर भी रहे है। राजनीति के प्रांरभिक काल में वो भाजपा से जुड़े थे पर अंतिम पड़ाव में वो कांग्रेस में शामिल हो गये थे। 
पूर्व विधायक पराक्रम सिंह के निधन से बनेड़ा में शोक की लहर छा गयी है। समूचे जिले में भाजपा व कांग्रेस के जनप्रतिनिधियों ने शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के अलावा पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल, सांसद सुभाष बहेड़िया, कांग्रेस जिला अध्यक्ष रामपाल शर्मा, भाजपा जिला अध्यक्ष लादूलाल तेली, पूर्व विधायक प्रदीप कुमार सिंह सिंगोली सहित अन्य कई जनप्रतिनिधियों ने बनेड़ा राजपरिवार के सदस्यों से वार्ता कर संवेदनाएं व्यक्त की है।

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... ★ हमारे सच लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ★ ईमानदार ना रुका ना झुका ★ क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है