सरकार की लापरवाही से हो रहें हैं दंगे और भयानक घटनाएं: राजस्थान में पहले कभी नहीं रहे ऐसे हालात रहे :- शर्मा

सरकार की लापरवाही से हो रहें हैं दंगे और भयानक घटनाएं: राजस्थान में पहले कभी नहीं रहे ऐसे हालात रहे :- शर्मा

सामाजिक विचारक रिंकू शर्मा ने कहा है कि राजस्थान में इससे पहले इतने भयावह हालात नहीं रहे हैं जैसे कि वर्तमान में हैं। अशोक गहलोत सरकार की लगातार लापरवाही के कारण ही प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में सांप्रदायिक दंगे तथा दिल दहला देने वाली भयानक घटनाएं हो रही हैं। करौली, जोधपुर,भीलवाड़ा और उदयपुर जिलों में हाल के दिनों में एक के बाद एक हुई घटनाओं के संदर्भ में  रिंकू शर्मा ने आज एक वक्तव्य में कहा कि यह सरकार का फेलियर है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपनी सरकार बचाने तथा राज्यसभा चुनाव जीतने के लिए होटलों में बंद हो जाती है। गृह विभाग खुद  गहलोत के पास है।होटलों में सरकार बंद होने के कारण ही इस तरह की घटनाएं हो रही हैं। सरकार का खुफिया तंत्र पूरी तरह से फेल हो चुका है।
एक बार घटना हो जाना स्वीकार्य हो सकता है,लेकिन बार-बार घटनाएं होना सरकार को कटघरे में खड़ा करता है। श्रीमती शर्मा ने कहा कि आज प्रदेश का हर नागरिक भय और तनाव युक्त माहौल में है। प्रशासनिक तंत्र का ताना-बाना बिखरा पड़ा है। संप्रदायिक गतिविधियों और संगीन अपराधिक वारदातों में लिप्त व्यक्तियों और सांगठनिक अपराधिक गिरोह से निपटने के लिए सरकार को तत्काल कठोर कदम उठाने चाहिए।सांप्रदायिक संगठनों और सांप्रदायिक विवाद का प्रचार प्रसार करने वाले प्रकाशनों पर कानूनी प्रतिबंध भी सरकार को लगाना चाहिए।
 उन्होंने कहा कि हालात सुधारने हैं तो प्रदेश सरकार को तुष्टीकरण की नीति को त्यागना होगा। अगर सरकार करौली जिले की पहली घटना पर ही आवश्यक कठोर कदम उठा लेती तो बाद की घटनाएं नहीं होतीं। अब भी अगर सरकार नहीं चेती तो इस तरह की घटनाओं को रोक पाना मुश्किल हो जाएगा। अपराधी सिर्फ अपराधी होता है। उसकी कोई धर्म-जाति नहीं होती। आज के हालात को देखते हुए प्रदेश के लोगों को भाजपा के पिछले सुशासन की याद आने लगी है। आज प्रदेश को एक मजबूत नेतृत्व की जरूरत है, जो ना तो किसी की बेसाखी ऊपर निर्भर हो और ना ही पंगू।अपने दम पर कठोर फैसले ले सके।

  • रिपोर्ट: - सुमेरसिंह राव 
बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... ★ हमारे सच लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ★ ईमानदार ना रुका ना झुका ★ क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है