पिता का पुश्तैनी घर हड़पने के लिए कूटरचित दस्तावेज से फर्जी पट्टा बनाने का आरोपी पुत्र गिरफ्तार

पिता का पुश्तैनी घर हड़पने के लिए कूटरचित दस्तावेज से फर्जी पट्टा बनाने का आरोपी पुत्र गिरफ्तार

नागौर (राजस्थान/ मोहम्मद शहजाद) कोतवाली पुलिस ने अपने ही पिता के पुश्तैनी मकान को हड़पने के लिए कूटरचित दस्तावेजों से फर्जी पट्‌टा तैयार कराने के आरोपी पुत्र को गिरफ्तार किया है। आरोपी पुत्र वर्तमान में मेडता सिटी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में नर्सिंग ऑफिसर के पद पर कार्यरत है। कोतवाली थानाधिकारी हनुमान सिंह चौधरी ने बताया कि नागौर के पुराना पावर हाउस के पास भार्गव मोहल्ले में रहने वाले धनसुख पुत्र मांगीलाल भार्गव ने 30 जनवरी 2022 को कोतवाली पुलिस को एक रिपोर्ट दी तथा बताया कि उसका पुत्र कमलेश भार्गव उसकी पुश्तैनी संपत्ति हड़पने के लिए कूटरचित दस्तावेज तैयार किए और फिर स्टेट ग्रांट एक्ट के तहत अपने नाम से फर्जी पट्टा बनवा लिया है। उसने नगर परिषद नागौर में मेरा मकान हडपने के लिए फर्जी सहमति पत्र बनाया और कूटरचित दस्तावेज पेश कर छल कपट से पट्‌टा बनवा लिया है। इस आशय का मुकदमा दर्ज होने के बाद एसपी राममूर्ति जोशी ने इस प्रकरण में त्वरित कार्रवाई के निर्देश दिए।

तदोपरांत एएसपी राजेश मीणा व उपाधीक्षक विनोद कुमार सीपा के सुपरविजन में सीआई हनुमानसिंह के नेतत्व में एक टीम गठित की गई। इस टीम ने समस्त दस्तावेजों की जांच कर सत्यापन किया तो पाया कि आरोपी कमलेश भार्गव ने कूटरचित दस्तावेजों के जरिए फर्जी पट्टा बनवा लिया है। आरोपी मूल रूप से नागौर के भार्गव मोहल्ले का है तथा मेड़ता में रघुनाथ मंदिर के पीछे सेवगों के मोहल्ले में रहता है और वह मेडता के सरकारी अस्पताल में नर्सिंग ऑफिसर के पद पर कार्यरत है। एफएसएल की जांच में आरोपी के पिता के हस्ताक्षर फर्जी साबित हुए तो पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर मेड़ता जेल भेज दिया।

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... मौजूदा समय में डिजिटल मीडिया की उपयोगिता लगातार बढ़ रही है। आलम तो यह है कि हर कोई डिजिटल मीडिया से जुड़ा रहना चाहता है। लोग देश में हो या फिर विदेश में डिजिटल मीडिया के सहारे लोगों को बेहद कम वक्त में ताजा सूचनायें भी प्राप्त हो जाती है ★ G Express News के लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ईमानदार ना रुका ना झुका..... क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है