दबंगों ने खाई खोदकर रोका रास्ता: स्कूल जाने के लिए तालाब से गुजरने पर मजबूर मासूम बच्चे

दबंगों ने खाई खोदकर रोका रास्ता:  स्कूल जाने के लिए तालाब से गुजरने पर मजबूर मासूम बच्चे

जहाजपुर (भीलवाडा, राजस्थान/ आज़ाद नेब) सरकार एक तरफ तो आजादी के 75 साल पुरे होने पर जश्न मनाने की तैयारियां करने में मशगुल है। वहीं उपखंड क्षेत्र के ग्राम पंचायत बांकरा के राजस्व गांव उरणा मे समेलिया बांध निकट बसे तकरीबन आठ परिवारों के मासूम बच्चे स्कूल जाने के लिए एवं वहां निवास करने वाले राशन सहित अन्य रोज़मर्रा के कार्यो के लिए तालाब के अंदर से गुजरने पर मजबूर है। 
यह मामला ग्राम पंचायत बांकरा के गांव उरणा मे बसे उन आठ परिवारों का जो तालाब के किनारे पर बसे उनके आने जाने के लिए ग्राम पंचायत द्वारा नरेगा के माध्यम से ग्रेवल रोड बनवाया था लेकिन कुछ दबंग लोगों द्वारा जेसीबी के माध्यम से उस रोड पर खाई खोज कर बंद कर दिया जिसके चलते तालाब के किनारे पर बसे लोगों को एवं स्कूल जाने वाले मासूम बच्चों को तालाब के पानी से होकर मजबूरन गुजरना पड़ता है।

इस समस्या को लेकर ग्रामीणों ने 28 जुलाई को कलेक्टर को भी गुहार लगाई थी। इससे पूर्व ग्राम पंचायत को समस्या से अवगत कराया था बावजूद इसके समस्या पर गौर नहीं किया गया। आज फिर ग्रामीणों ने उपखंड अधिकारी दामोदर सिंह को समस्या सुनाई। एसडीएम सिंह ने मामले को गंभीरता से लेते हुए मौके पर नायब तहसीलदार को भेजकर ग्रामीणों की समस्या का समाधान कर आम रास्ते को अवरूद्ध करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं।
ग्राम पंचायत विकास अधिकारी नरेंद्र मीणा ने बताया कि रास्ता अवरुद्ध करने को लेकर ग्रामीणों द्वारा मिली शिकायत पर हमने उन लोगों को नोटिस जारी किया था फिर भी उन लोगों द्वारा रास्ते को सही नहीं कि नहीं किया गया इनके खिलाफ ग्राम पंचायत विकास अधिकारी एवं पुलिस में रिपोर्ट देंगी।
ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम पंचायत बांकरा ने आने जाने के लिए ग्रेवल सड़क भी बनवा दी जिसको तीन माह बाद मांगीलाल मीणा, लादूलाल मीणा, गोपाल मीणा, रामा मीणा, सोजीलाल, बाबुलाल निवासी सुजानपुरा ने मिलकर जेसीबी कि सहायता से रास्ता काटकर खाई खोदकर बन्द कर दिया ओर कई बीघा चारागाह की जमीन पर अतिक्रमण भी कर रखा है।

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... ★ हमारे सच लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ★ ईमानदार ना रुका ना झुका ★ क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है