लापरवाही की हदें पार: सूरज को रोशनी दिखा रही रोड लाइटें, बिजली और सरकारी धन की हो रही बर्बादी

लापरवाही की हदें पार: सूरज को रोशनी दिखा रही रोड लाइटें, बिजली और सरकारी धन की हो रही बर्बादी

वैर (भरतपुर,राजस्थान/ कौशलेंद्र दत्तात्रेय) जहां एक और सरकारों द्वारा यह नारा दिया जाता है कि राष्ट्रहित में बिजली बचाओ वहीं दूसरी ओर वैर नगर पालिका के अधिकारी व कर्मचारियों की लापरवाही के चलते दिन में भी रोड लाइटें जलती रहती है जिस को बंद करने की जहमत ना तो बिजली विभाग के किसी कर्मचारी ने समझी और ना ही नगर पालिका के किसी कर्मी ने लाइट बंद करना उचित समझा जिससे लगता है कि सरकार के आदेश व नियमों की विभाग एवं जिम्मेदारों  की उदासीनता के चलते धज्जियां उड़ाई जा रही है इसमें सबसे बड़ी लापरवाही नगर पालिका के अधिकारी व कर्मचारियों की लगती है कि वे रोड पर दिन में जल रही लाइट को बंद करने की सुध लेना भूल जाते हैं  एक और जहां कोयला की कमी के चलते राज्य में बिजली कटौती करके सरकार व्यवस्था बनाने में जुटी हुई है वहीं दूसरी ओर शहर में रोड पर दिनभर दर्जनों से अधिक रोड लाइटें जलती है इससे बिजली का दुरुपयोग होने से राजस्‍व का नुकसान हो रहा है नगर पालिका की कार्यशैली पर सवाल खड़े हो रहे हैं  शहर में दिन में जलती रोड लाइटे नगर पालिका के सिस्टम की पोल खोल रही है 

गांव में नहीं बिजली शहरों में चौबिस घंटे जल रही रोड लाइट

ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली का संकट विधमान है बिजली समस्या के चलते ग्रामीण परेशान है लेकिन वैर नगर पालिका की  लापरवाही का यह आलम है कि चौबिस घंटे  विभिन्न इलाकों में रोड लाइट जलती हुई नजर आ रही है जिसकी तरफ किसी भी अधिकारी का ध्यान नहीं है जहां एक और राज्य सरकार बिजली की कम खपत के लिए एलईडी लाइट और सौर ऊर्जा आदि को बढ़ावा दे रही है वहीं नगर पालिका के अधिकारी राज्य सरकार की योजना पर बट्टा लगाते हुए फिजूल खर्च को बढ़ावा देते हुए दिन में रोड लाइट जलवा कर अपनी लापरवाही का सबूत दे रहे हैं।

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... मौजूदा समय में डिजिटल मीडिया की उपयोगिता लगातार बढ़ रही है। आलम तो यह है कि हर कोई डिजिटल मीडिया से जुड़ा रहना चाहता है। लोग देश में हो या फिर विदेश में डिजिटल मीडिया के सहारे लोगों को बेहद कम वक्त में ताजा सूचनायें भी प्राप्त हो जाती है ★ G Express News के लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ईमानदार ना रुका ना झुका..... क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है