जयपुर पंचायती राज मंत्री के खिलाफ महापड़ाव शुरू होते ही दो गुटों में बंटे सरपंच: एक गुट कर रहा विरोध तो दूसरा समर्थन

जयपुर पंचायती राज मंत्री के खिलाफ महापड़ाव शुरू होते ही दो गुटों में बंटे सरपंच: एक गुट कर रहा विरोध तो दूसरा समर्थन

जयपुर: राजस्थान सरपंच संघ (राजस्थान सरपंच संघ) की ओर से राजधानी रायपुर में आज से पंचायती राज मंत्री (राजस्थान मंत्री रमेश मीणा) के विपरीत महापड़ाव शुरू हो गया है। महापड़व में सम्मिलित हों, सरपंच सरपंच और वार्ड पंचों की भर्ती है कि रेकी मीणा को मंत्री पद से हटा दिया गया है। जब तक राज्यपाल पद से पद हटा दें। तब तक महापड़ाव चालू होने तक. बबलूर, नागौर सहित 7 में पंचायती राज विभाग की ओर से करवाए जावेद विकास के रूप में कार्य करता है। एंट्रेंस में ठीक ठीक ठीक ठीक से काम नहीं कर रहा है।_

सरपंच संघ के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष आमने-सामने

प्रदेश के सरपंच, उप सरपंच, वार्ड पंच, प्रधान और उप प्रधान दो गुटों में बंट गए हैं। पहला गुट राजस्थान सरपंच संघ के प्रदेशाध्यक्ष भंवरलाल जांगू का है जो पंचायती राज मंत्री रमेश मीणा का विरोध कर रहे हैं। दूसरा गुट राजस्थान सरपंच संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष नेमीचंद मीणा का है जो मंत्री रमेश मीणा के समर्थन में है। सरपंच संघ के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष भी आमने-सामने हो गए हैं। दोनों ही गुटों की ओर से जयपुर में धरने शुरू कर दिए गए हैं। विरोध करने वाले सरपंच मानसरोवर के न्यू सांगानेर रोड स्थित एक होटल के पीछे प्लॉट में एकत्रित हुए हैं। वहीं मंत्री का समर्थन करने वाले सरपंच भी मानसरोवर के न्यू सांगानेर रोड स्थित ओशियन पैलेस मैरिज गार्डन में जुटे हुए हैं।

बिना जांच के ही मंत्री ने लगा दिए करोड़ों रुपये के घोटाले के आरोप

मंत्री के विरोध में महापड़ाव डालने वाले सरपंच संघ के अध्यक्ष भंवरलाल जांगू ने निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि मंत्री ने बिना जांच के ही सरपंचों पर करोड़ों रुपये के घोटाले का आरोप लगा दिया। इससे प्रदेश के सरपंच आहत हैं। जांगू का कहना है कि मंत्री की ओर से एक एनजीओ के मार्फत घर-घर सर्वे करा कर जांच करवाई जा रही है। यह तरीका गलत है। ग्रामीण क्षेत्रों की अधिकतर महिलाओं को विकास योजनाओं और भुगतान के बारे में जानकारी नहीं है। राजनैतिक दुर्भावना के कारण एनजीओ की ओर से किए जा रहे सर्वे से सरपंचों के खिलाफ माहौल बन रहा है।

मनरेगा में करोड़ों का भुगतान हुआ लेकिन धरातल पर काम हुए ही नहीं- मंत्री रमेश मीणा
हमारी माने तो यही कामां पंचायत समिति की ग्राम पंचायतों का हाल है।।।

पंचायती राज मंत्री रमेश मीणा ने पिछले दिनों नागौर और बाड़मेर जिलों का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने कुछ ग्राम पंचायतों के विकास कार्यों की हकीकत जानने के लिए फील्ड में भी गए। जिन विकास कार्यों को कागजों में पूरा होना दिखा कर लाखों रुपये का भुगतान उठाया जा चुका था, मौके पर उसका कोई काम हुआ ही नहीं था। ऐसे में मंत्री ने आगामी भुगतान रोककर भ्रष्टाचार की जांच के आदेश दिए। मंत्री रमेश मीणा का कहना है कि मनरेगा में जिस कार्य के लिए पैसे उठा लिए गए हैं। धरातल पर वह काम हुआ ही नहीं। नागौर में 354 करोड़ रुपए और बाड़मेर में 519 करोड़ रुपये के विकास कार्य करवाए लेकिन मौके पर ये काम मिले ही नहीं।

बुलंद आवाज के साथ निष्पक्ष व निर्भीक खबरे... आपको न्याय दिलाने के लिए आपकी आवाज बनेगी कलम की धार... ★ हमारे सच लिखने का जज्बा कोई तोड़ नहीं सकता ★ क्योंकि यहां ना जेक चलता ना ही चेक और खबर रुकवाने के लिए ना रिश्तेदार फोन कर सकते औऱ ना ही ओर.... ★ ईमानदार ना रुका ना झुका ★ क्योंकि सच आज भी जिंदा है और ईमानदार अधिकारी आज भी हमारे भारत देश में कार्य कर रहे हैं जिनकी वजह से हमारे भारतीय नागरिक सुरक्षित है